अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.30.2016


योग के बहाने

गुप्ता साहब ने यूँ तो कभी "योगा" किया नहीं। पर भला आज कैसे न करते? हम तो कहते हैं ऐसे योग रोज़ हों जिसमें रोज़ाना कुछ न कुछ मिले। अब देखो न आज योग दिवस मनाया गया। किसी ने सूचना दी कि योग के लिए जाओगे तो टी-शर्ट, योगा मैट, बैग वग़ैरह मिलेगा। तो चल दिये अपने सहयोगियों को सामान मिलने के लालच में।

हमारे यहाँ तो वैसे भी परम्परा रही है आम के आम गुठलियों के दाम। शर्मा जी तो योगा के लिए भी गए और सामान भी मिला पर मारा-मारी बहुत थी। किसी को तो मात्र टी-शर्ट से काम चलाना पड़ा और किसी को मैट से ही। और किसी को सभी मिला। पर सब ख़ुश थे। भला फ़्री की चीज़ किसे नहीं भाती।

पड़ोस में रहने वाले चंदु ने कहा, "क्या कभी भोग दिवस भी मनाया जाता है? रोज़ कोई न कोई डे हो और लोगों को बदले में कुछ मिले। चाचा! अगर भोग दिवस होगा तो लोगों को तरह-तरह का खाने को मिलेगा। जिन्हें कभी वो चीज़ें नसीब न हुई वो मज़ा ले लेंगे। कभी फल दिवस तो कभी मेवा दिवस, ऐसे ही रोज़ाना दिवस मनाने चाहिए।"

तभी गुप्ता जी बोले पड़े, "तुम अच्छे निकले भला ऐसा भी हो सकता है क्या? योग का तो अपना अर्थ है पर भोग दिवस, फल दिवस, मेवा दिवस का क्या औचित्य। योग से तो फ़ायदा होगा पर भोग दिवस से तो लोगों का नुक़सान होगा लोग डायबीटीज़ के शिकार होंगे। सत्तर बीमारियाँ लगेगीं अलग से।"

शर्मा जी बीच में ही बोल पड़े, "सरकार बड़े सोच-समझ कर दिवस तय करती है। अब अगर योग दिवस के आलावा तुम्हारे बताये दिवस मनाने लगे तो क्या फ़ायदा होगा सरकार का और क्या फ़ायदा होगा भागीदारी कम्पनियों का?"

शर्मा जी थोड़ा समझाते हुए बोले, "अब देखो रिबोक के मैट, बैग मिले तो कम्पनी का कुछ तो फ़ायदा ही हुआ होगा। अब ऐसे में भोग दिवस में क्या किसान अपना अनाज मुफ़्त में जनता को बाँटेगे? नहीं न!"

अब कुछ-कुछ बात चंदु के समझ आने लगी थी। पर उसे टी-शर्ट मिलने की ख़ुशी थी। पर वो सोच रहा था, "काश ये योग गाँवों में भी होता और वहाँ लोगों को इस तरह सामान मिलता। पर वो लोग कौन सा रिबोक को जानते हैं तो कम्पनी भला क्यों बाँटती? और वैसे भी योग की ज़रूरत तो शहरों में है, गाँवो में कहाँ। वहाँ तो लोग जाते ही हैं सुबह-सुबह सैर पर।

पर हाँ अब जो शौचालय का अभियान पूरा हुआ तो आगे आने वाले सालों में वहाँ कुछ गुंजाईश ज़रूर होगी योग दिवस मनाने की। पर ख़ैर अभी तो नींद आ रही है। चलो, चला जाये सोने इस योग के चक्कर में चार बजे उठना पड़ गया।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें