अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.06.2018


पानी

पानी ही तो जीवन है
यह जीवन की धड़कन है।

नदियाँ माताएँ हैं सबकी
इनसे ही है गाँव- शहर,
इनको गंदा करके तो हम
रोज़ पी रहे सुनो ज़हर।

नदियों में कचरा ना डालो,
यही तो असली पूजन है।

पानी जीवन का रखवाला
तन में पानी बहता है।
इसके बिना सोचकर देखो
प्राणी क्या जी सकता है?

जल की सदा ज़रूरत होगी
इनसे बादल- जलकण हैं।

पाँच तत्व रचते हैं सबको
उनसे ही सारे प्राणी।
एक तत्व जो व्याप्त सभी में
अखिल धरा में वह पानी।

जल - स्रोतों को चलो बचाएँ
अमृत है, असली धन है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें