अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.25.2017


गुलमोहर

नीले गगन में गीत प्यार का गा रहे,
गुलमोहर छा रहे ।

डूबकर खत लिखे, लाल रोशनाई से
कूक रही कोयलिया बेकल अमराई से।
मंजरियाँ लिए पेड़, शीश हैं झुला रहे।

हवा चली हरफ-हरफ सड़कों पर बिखर गये
केसरिया लाल रंग धरती पर निखर गये।
संदेशा प्यार का दूर तक लुटा रहे ।

ख़ुशबू हवाओं में , फैला ख़ुमार है,
हर तरफ़ बह रहा प्यार ही प्यार है
मौसम बहार का यूँ ही बना रहे ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें