अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

ख़ुदा अपना भी तो है यारो !
डॉ. अनिल चड्डा


ख़ुदा तुम्हारा तो ख़ुदा अपना भी तो है यारो,
ख़ुदा के वास्ते, ख़ुदा का नाम न बिगाड़ो यारो !

मज़हबी जुनून जीने के लिये अच्छा नहीं है,
आपसी लड़ाई में ख़ुदा गर्द में न उतारो यारो !

नहीं मालूम कहाँ से आये, कहाँ चले जायेंगें,
कम से कम कोई ज़िंदगी तो सवारो यारो !

अपना घर बसे या उजड़े, ख़ुदा की मर्जी है,
किसी का घर बेवजह तो न उजाड़ो यारो !

सोच अपनी-अपनी, कर्म भी अपने-अपने,
अपनी-अपनी ज़िंदगी चैन से गुजारो यारो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें