अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.23.2019


माँ

ज़िंदगी के एहसास में
ओ हर वक़्त रहती
कभी सीख बनकर
कभी याद बनकर
1.
दुनिया में नहीं
दूसरी कोई समता
सन्तान से पहले
जहाँ जन्म लेती ममता
औलाद में स्वयं
फौलाद भरती
टकराती तूफानों से
चट्टान बनकर
ज़िंदगी के एहसास में
ओ हर वक़्त रहती
कभी सीख बनकर
कभी याद बनकर
2.
पन्नाधाय बनी कभी
बनी जीजाबाई
अंग्रेज़ों से लड़कर
कहलायी लक्ष्मीबाई
सामने पड़ा है कभी
राष्ट्रहित जब
उदर अंश को रख
लिया है पीठ पर
ज़िंदगी के एहसास में
ओ हर वक़्त रहती
कभी सीख बनकर
कभी याद बनकर
3.
प्रगति को जहाँ
रुकना पड़ा है
देवत्त्व को स्वयं
झुकना पड़ा है
सतीत्व को कसौटी पर
सती ने रखा जब
त्रिलोकी झूले हैं
पालने में पड़कर
ज़िंदगी के एहसास में
ओ हर वक़्त रहती
कभी सीख बनकर
कभी याद बनकर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें