अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.09.2017


नेताजी-नेताजी

नेताजी करत करत ज़बान सूख गई हमारी।
फिर भी न ईने ध्यान धरो
जी के लिए ज़िंदगी गुज़र गई हमारी।
इधर से उधर, उधर से इधर
इनके काम में रत रहे, ज़िंदगी भर।
फिर भी हमको फायदा न मिला
इनके नेता होने का, रत्ती भर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें