अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.20.2017


किनारे पर खड़ा क्या सोचता है

किनारे पर खड़ा क्या सोचता है
समुंदर दूर तक फैला हुआ है

ज़मीं पैरों से निकली जा रही है
सितारों की तरफ़ क्या देखता है

चलो अब ढूँढ लें हम कारवाँ इक
बड़ी मुश्किल से ये रस्ता मिला है

हमें तो खींच लाई है मुहब्बत
तुम्हारा शहर तो देखा हुआ है

नये कपड़े पहन के जा रहे हो
वहाँ कीचड़ उछाला जा रहा है

वहाँ तो बारिशें ही बारिशें हैं
यहाँ कोई बदन जलता रहा है

कभी उस को भी थी मुझ से मुहब्बत
ये क़िस्सा अब पुराना हो चुका है

बुरे दिन हैं सभी मुँह मोड़ लेंगे
“ज़माने में यही होता रहा है”


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें