अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.04.2018


दरीचा था न दरवाज़ा था कोई

दरीचा था न दरवाज़ा था कोई
मगर उस घर में भी रहता था कोई

मुझे ही ढूँढता फिरता था शायद
गली के मोड़ तक आया था कोई

किनारों पर भरोसा था उसे भी
नदी में आज फिर डूबा था कोई

कहाँ का था कहाँ जाना था उस को
इधर से अजनबी गुज़रा था कोई

सुना है रात भर बारिश हुई थी
लगा यूँ रात भर रोया था कोई

मुझे चेहरा मेरा दिखला रहा था
वो ख़ुद टूटा सा आईना था कोई


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें