अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.25.2014


मैं भ्रष्टाचार मिटाऊँगा

चिल्ला चिल्ला कर भैया बोला भ्रष्टाचार मिटाऊँगा
अब तक यह मंत्री खाये सब बचाखुचा मैं खाऊँगा

दूध दही तो खा गये एमपी छाछ छोड़ के चले गये
छाछ में खड़िया मिलवाकर दूध के दाम बिकाऊँगा

मंत्री खा गये, एमपी खाये, खा गये घर के रखवाले
मैं इन पर लानत पढ़ कर देश को ही खा जाऊँगा

तेल में चोरी, गैस में चोरी, चोरी अब हर गली-गली
चोरी की निंदा कर कर मैं खुद डकैत बन जाऊँगा

बेमानी और ना इंसाफी मिली कुटी अब तन तन में
जिसको देखूँ सो चोर लगे किसका अपना हो पाऊँगा

रुको नहीं तुम, बढ़े चलो कभी तो वो दिन आयेगा
लिख के घोटाली करतूतें, मैं खुले आम पढ़ पाऊँगा

ढ़ूँढ़ूँगा मैं महलों में और छानूँगा हर एक बंगला
छुपा जो धन है स्विस बैंक में भारत वापस लाऊँगा

कहे रज़ा कविराज कहाँ से मन लाऊॅ जो सहूँ इसे
भूख बीमारी महँगाई मैं देख देख के मर जाऊँगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें