अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

छोटी सी बिगड़ी बात को सुलझा रहे हैं लोग
अब्बास रज़ा अलवी


छोटी सी बिगड़ी बात को सुलझा रहे हैं लोग
ये और बात है कि यूँ, उलझा रहे हैं लोग

चर्चा तुम्हारा बज़्म में ग़ैरों के इर्द-गिर्द
कुछ इस तरह से दिल मेरा बहला रहे हैं लोग

अरमां नये, साहिल नये, सब सिलसिले नये
उजड़े हुए दयार से, दिखला रहे हैं लोग

कहते हैं कभी इश्क़ था, अब रख-रखाओ है
फिर आज क्यों यूँ देख कर, शर्मा रहे हैं लोग

हमने ख़ुद अपने ज़ुर्म का इकरार कर लिया
अब क्यों ”रज़ा” से इस क़दर कतरा रहे हैं लोग


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें