अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.23.2019


व्यापार

दिल की जो बातें थीं सुनता था पहले,
सच ही में सच था जो कहता था पहले।
करने अब सच से खिलवाड़ आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

कमाई की ख़ातिर दबाता है सब को ,
गिरा कर औरों को उठता है ख़ुद को।
कि ज़ेहन में उसके जुगाड़ आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

मुनाफ़े की बातें ही बातें ज़रूरी।
दिन में ज़रूरी, रातों को ज़रूरी।
देख वायदों में उसके क़रार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

पैसे की चिंता ही उसको भगाती,
दिन में बेचैनी, रातों को जगाती।
दौलत पे ही उसको प्यार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें