अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 13, अंक 116,  मार्च प्रथम अंक, 2017
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  |  कहानी  |  लघु-कथा  | सांस्कृतिक-कथा आपबीती  |  आलेख  |  हास्य-व्यंग्य  |   हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ
महाकाव्य  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  लेखक  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  साहित्यिक-चर्चा  |  शोध निबन्ध 
शायरी  |  शायर  |    बाल साहित्य  |  हिन्दी ब्लॉग  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  |  साक्षात्कार  |  संपादकीय
इस अंक में  |  पुराने अंक  

सम्पादकीय: मुख्यधारा से दूर होना वरदान -
 -  कई बार मुख्यधारा से दूर होना वरदान लगने लगता है, क्योंकि खेमेबाज़ियों से दूर, विमर्शों के बोझ से मुक्त, नारेबाज़ी से परे सन्नाटों में शुद्ध साहित्य का रस बहता है। पूरा पढ़ें...

आपके पत्र - शुद्ध लेखन युक्तियाँ - पुस्तक बाज़ार.कॉम -
 इस स्तंभ में साहित्य कुंज व हिन्दी साहित्य के बारे में आपके पत्र प्रकाशित किए जायेंगे।
रचनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया के लिए रचना के नीचे "अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें" बटन पर क्लिक करें और अपनी प्रतिक्रिया तुरंत सीधे लेखक/लेखिका को भेजें। धन्यवाद -
इस अंक के पत्र -
१. हिन्दी व्याकरण -
    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
    भारतकोश
    हिन्दी साहित्य\
२. कविता का व्याकरण एवं छंद - भारतकोश

हिन्दी की ई-पुस्तकें खरीदने और प्रकाशित करवाने के लिए कृपया नीचे दिये लिंक पर क्लिक करें: pustakbazaar.com
पुस्तक बाज़ार के नये प्रकाशन
इस अंक की कहानियाँ -
भायली -एक परिभाषा प्यार की
दामोदर सिंह राजपुरोहित
अनारकली
अंजना वर्मा
बर्फ़ के अंगारे
गुडविन मसीह
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - कविता - सांस्कृतिक-कथा -
अस्पताल में एक और आम हादसा - डॉ. अशोक गौतम
पत्नी बीमार है - डॉ. रश्मि शील
बजट का हलवा - हरि जोशी
सरकार की खिंचाई - प्रमोद यादव
मिसेज डोली, खिड़की को देखूँ (कुण्डलिया छंद) - अभिषेक कुमार अम्बर
चमत्कारी फल
गोवर्धन यादव
बाल साहित्य - लघु कथा -  साक्षात्कार-
अंधियारे से डरना कैसा, दादीजी की दौड़, अच्छे दिन - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
अनमोल रतन, नूतन आशियाँ - अर्चना सिंह "जया"
दलबदलू - कमला घटऔरा
सौ-सौ चूहे खाकर बिलाव हज को चला', मालिक तो हम हैं, भीख - हरि जोशी
औक़ात - ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’

आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-
मेपल तले, कविता पले
समीक्षा - 7
डॉ. शैलजा सक्सेना

खेतिहर समुदायों के विस्थापन की त्रासदी : जॉन स्टाईनबैक की अमर कृति "ग्रेप्स ऑफ़ राथ"
प्रो. एम. वेंकटेश्वर
कॉमेडी के निकष पर शेक्सपियर - डॉ. कंचन वर्मा
हिन्दी कहानी का उद्भव और विकास - डॉ. योगेश राव
विद्यानिवास मिश्र के निबन्धों में लोकसंस्कृति एवं परम्पराबोध - सत्यप्रकाश तिवारी
आलेख - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य

शौर्य, साहस, शक्ति, और करुणा की प्रतिमूर्ति- कैप्टन लक्ष्मी सहगल
गोवर्धन यादव
साहित्य और बाज़ारवाद
डॉ. श्वेता चौधारे
हिंदी भाषा : एक राष्‍ट्रीय पहचान - आनंद दास
लीलाधर जगूड़ी की कविताः विज्ञापन संस्कृति बनाम स्त्री विमर्श - डॉ. हरेन्द्र सिंह
रक्तानुबंध
लेखक, स्वर्गीय ईश्वर पेटलीकर
अनुवादक: डॉ. रजनीकान्त शाह
कविताएँ - शायरी -
किस लिए मन बावरा, सपने बुनती हूँ, ऊँचा पहुँचोगे तुम, मन का समर्पण - मंजूषा मन
हाँ, मैं स्त्री हूँ!! - डॉ. शैलजा सक्सेना
शब्द-शक्ति - आभा नौलखा
दोस्त, शब्दों के अन्दर हो! - महेश रौतेला
उदास है नदी, दुखियारी नदी - गोवर्धन यादव
मेरा भी कोई घर होगा ना माँ - रजनी कुमारी
पहेली - सुधीर जुगरान
इस लोक में - गिरिजा अरोड़ा
उत्सुक निगाहों से, नूपुर - गोविंद प्रसाद ओझा
दीया स्नेह बाती - अतुल चंद्रा
तुम मिले तो यूँ लगा, यह अधखिली कली पाटल की, राज़ की यह बात - अच्युतम केशवम
अकेले मन की दुविधा -मनोज कुमार यादव
क्या आपने देखा है...?, उड़ने वाले डाकिये - अमरेन्द्र सुमन
प्रीत का आचमन - कुलदीप प्रजापति "विद्यार्थी"
मँझधार, क्या देखा है तुमने, अस्तित्व - सन्तोष कुमार प्रसाद
सच कहा है मैंने, जान के नाम, मौन - अभिलाष गुप्ता
कैसी ये तक़दीर, अप्रैल फूल, अनुभव - डॉ. जेन्नी शबनम
बात बिगड़ी, ऐसी बिगड़ी, वफ़ाएँ लड़खड़ाती हैं, बरसना था नहीं बरसे - अशोक अंजुम
आज़ादी के क्या माने वहाँ, तू मेरे राह नहीं, इतने गहरे घाव - सुशील यादव
चाँद बोला चाँदनी, आज तिरंगे को देखा, मक्कार चोर धूर्त - गंगाधर शर्मा "हिन्दुस्तान"
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

सैर "कथाकारों की दुनिया" की
 डॉ. सुपर्णा मुखर्जी, हैदराबाद

चाँद मुट्ठी में कर ले
 समोद सिंह चरौरा
  
वहाँ पानी नहीं है : सदी के सत्य को सामने लाने वाली कविताएँ
मनोज कुमार झा
यात्रा संस्मरण - यात्रा संस्मरण - आप-बीती / संस्मरण -
कनाडा डायरी के पन्ने
16_परम्पराएँ
सुधा भार्गव

रोमांच और नैसर्गिक सौंदर्य से भरपूर किन्नौर
मीना ए. शर्मा

पारिश्रमिक - डॉ. रश्मि शील
साहित्यिक समाचार -

डॉ. अमरजीत कौंके को साहित्य अकादमी का अनुवाद पुरस्कार

कैलिफोर्निया की राजधानी में होली पर हुआ हुड़दंग कवि सम्मेलन

गोइन्का पुरस्कार एवं सम्मान समारोह संपन्न
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ में पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा) संकलन -

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
रज़िया /एक/ (१)

शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय-
7 8 9 10

महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
विचारों का वृन्दावन वन! (साउंड क्लाऊड)
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्य सेतु
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada