अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 103,  जनवरी द्वितीय अंक, 2016
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  नवगीत  |  शायरी  |  कहानी  |  लघु-कथा  |  सांस्कृतिक-कथा  |  आपबीती  |  आलेख  |  महाकाव्य  |
हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  बाल साहित्य  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  शोध निबन्ध |  साहित्यिक-चर्चा  |  लेखक  |  शायर  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  | साक्षात्कार  |  संपादकीय |
इस अंक में  |  पुराने अंक 

सम्पादकीय: साहित्य का व्यवसाय
चाहे लेखक कितना भी कह लें कि लेखन केवल "स्वान्तः सुखाय" प्रक्रिया है, परन्तु मैं इसे नहीं मानता। लेखक सदा पाठक या श्रोता की अपेक्षा रखता है। सृजन प्रक्रिया अगर मानसिक सुखद व्यसन है तो दूसरी ओर इस कला के प्रकाशन का आर्थिक बोझ दुखदायी हो सकता है..... पूरा पढ़िए

इस अंक में कहानियाँ -
रामलीला
अम्बरीश कुमार श्रीवास्तव
लव एंड शादी.कॉम
रिशी कटियार
बेटियाँ
हेमंत शेष
हास्य - व्यंग्य - बाल साहित्य - लघु कथा -
सौ साल पहले - प्रमोद यादव
सिंघम रिटर्न ५३ .... - सुशील यादव
मुखर-मुखिया, मजबूर मार्गदर्शक...!! - तारकेश कुमार ओझा
ग़लती नहीं करूँगी, बिल्ली की दुआएँ - प्रभुदयाल श्रीवास्तव कहानीकार - हेमंत शेष
तोहफ़ा - ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’
ये कहाँ आ गए हम...।, फ़ैशन, तीर्थान्त - रचना गौड़ ’भारती‘
आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-
मित्रों, एक लम्बे अरसे से किसी बहाने से साहित्य चर्चा नहीं कर पाई। इस बीच कुछ लिखा, कुछ पढ़ा और बहुत सा सोचा...

कविता, तुम क्या कहती हो!! - डॉ. शैलजा सक्सेना

फ्रांसीसी राज्य क्रान्ति और यूरोपीय नवजागरण की अंतरकथा : ए टेल ऑफ़ टू सिटीज़
डॉ. एम वेंकटेश्वर
भारतीय साहित्य में अनूदित साहित्य का महत्व और कन्नड़ का अनूदित
"हयवद्न" नाटक का विशेष अभ्यास
-  पिनल पढियार
धर्म का मौलिक स्वरूप - रामकेश्वर तिवारी
जयशंकर प्रसाद की कहानियाँ- वर्तमान परिप्रेक्ष्य - रहीम मियाँ
नाटक - साक्षात्कार -  अनूदित साहित्य
ज़हर का पौधा
डॉ. कन्हैया त्रिपाठी
नुक्कड़ नाटक की अध्येता और आलोचक डॉ. प्रज्ञा से बातचीत
मोनिका नांदल
एक राजनैतिक कहानी
तेलुगु मूल : "ओका राजकीय कथा"
लेखिका : वोल्गा
हिन्दी अनुवाद: प्रो. एम. वेंकटेश्वर
कविताएँ - शायरी -
शहर, वो औरत, गुमनामी, दीवाली - डॉ. विक्रम सिंह ठाकुर
शिकायत सब से है लेकिन, नए साल से कह दो कि, चाय का कप - डॉ. मनीषकुमार सी. मिश्रा
हँसना झूठी बातों पर, तेरा चेहरा नज़र आये - मनोज यादव
आम आदमी का सामान्य ज्ञान, बेटियाँ, फिर से कुएँ पर जा-जा कर, याद - जयप्रकाश मानस
मेरे मार्गदर्शक - पिता और शब्दकोश, पत्थर तोड़ती औरत - मनोज चौहान
वही तो रक्त है, त्राहि-त्राहि मची हो, ओ मातृभूमि तेरी जय होये - उपेन्द्र परवाज़
इक कहानी तुम्हें मैं.., सूरत बदल गई कभी, बिना तेल के दीप जलता नहीं है - संजय कुमार गिरि
वो इश्क के क़िस्से, अपने पास न रखो, तेरे इंतज़ार में, थककर चूर, तेरे आगोश में - अमित राज ‘अमित’
दिल मिरा ये सोचकर हैरान है, हम क्या बताएँ कैसे, और क्या था - अनिरुद्ध सिंह सेंगर
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

झकझोरने वाली कहानियाँ
भावना मिश्रा

"स्थानीयता" और "वैश्विकता" के बीच सार्थक आवाजाही
जितेन्द्र श्रीवास्तव

स्त्री जीवन के भोगे हुए यथार्थ की कहानी : 'नदी'
डॉ. एम वेंकटेश्वर
यात्रा संस्मरण - संस्मरण/आबीती-  संकलन -
डायरी के पन्ने
कनाडा सफ़र के अजब अनूठे रंग
06_पतझड़ से किनारा
सुधा भार्गव
आँखों देखा ईरान
02
मूल लेखक: प्रो. अमृतलाल “इशरत”
अनुवादक: राजेश सरकार
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
मोहित और सतिया/तीन/
 
शकुन्तला
इस अंक में चतुर्थ सर्ग - प्रमोद ६ महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश
(अगले अंक से)
साहित्यिक समाचार -
Kishan Kaljayi
किशन कालजयी को बृजलाल द्विवेदी सम्मान
संजय द्विवेदी
कार्यकारी संपादकः मीडिया विमर्श

हिंदी राइटर्स गिल्ड की साहित्यिक गतिविधियों का २०१६ में
सफलतापूर्वक शुभारम्भ

सविता अग्रवाल ’सवि’

महिला विशेषांक होगा "गुफ़्तगू" का अगला
अंक
इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी
साहित्य के उन्नयन हेतु सलिला संस्था द्वारा प्रदत्त
स्वतंत्रता सेनानी औंकारलाल शास्त्री स्मृति सम्मान साहित्य, बालसाहित्य, बाल प्रतिभा पुरस्कार एवं मेवाड़ गौरव, सलूम्बरश्री सम्मान (वर्ष 2016) हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित

डॉ. विमला भंडारी
   
     
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

हिन्दी राइटर्स गिल्ड
 अनुभूति-अभिव्यक्ति  
 काव्यालय
 वागर्थ (भारतीय भाषा परिषद.Com)
 हंस
 साहित्य सरिता
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
लघुकथा
साहित्य सेतु
हिन्दी ब्लॉग
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada