अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 94,  नवम्बर प्रथम अंक, 2014
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता   कहानी   लघु-कथा   लोक-कथा   आपबीती   आलेख    हास्य-व्यंग्य    हास्य-व्यंग्य कविताएँ    महाकाव्य   अनूदित-साहित्य   लेखक   संकलन    ई-पुस्तकालय   साहित्यिक-चर्चा   शोध निबन्ध    साहित्यिक-समाचार    शायरी   शायर   बाल साहित्य   हिन्दी ब्लॉग
पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा    साक्षात्कार
इस अंक में     पुराने अंक

सर्वेक्षण : आधुनिक युग में पुस्तक प्रकाशन के विविध विकल्प उपलब्ध हैं। इन विकल्पों में सबसे अधिक लोकप्रिय और सहज ई-बुक्स है। यह पुस्तकें आप ई-रीडर, स्मार्ट फोन, टैब्लेट्स, पीसी और लैपटॉप पर पढ़ सकते हैं। यह पुस्तकें आपके व्यक्तिगत पुस्तकालय का भाग बन जाती हैं। ई-बुक्स की कीमत आम पुस्तकों से बहुत कम होती है और और प्रकाशन भी बहुत सस्ता होता है। यह आपकी शेल्फ़ पर जगह भी नहीं घेरतीं। इस विकल्प के बारे में साहित्य कुंज ने एक सर्वेक्षण करने का प्रयास शुरू किया है। आप सुधी पाठकों से निवेदन है कि इसमें अवश्य हिस्सा लें। इंटरनेट पर साहित्य के नए विकल्प के लिये यह महत्वपूर्ण है।
                                                   - सुमन कुमार घई
                                                     सर्वेक्षण आरम्भ करें :

इस अंक में —

कहानियाँ
कविताएँ
शायरी
हास्य-व्यंग्य
ललित निबन्ध
बाल साहित्य

लघु कथा
निबन्ध/ आलेख
पुस्तक चर्चा / साहित्य चर्चा/
पुस्तक समीक्षा

ई-पुस्तकालय
यात्रा संस्मरण

संकलन
सूचना
अनूदित साहित्य
साहित्यिक समाचार
महाकाव्य
साहित्य संगम

इस अंक में कहानियाँ -
सज़ा
डॉ. नरेंद्र शुक्ल
फुँसियाँ
सुशांत सुप्रिय
अक्सर यूँ होता है.....!!
शिवानी कोहली 'अनामिका'
हास्य - व्यंग्य - बाल साहित्य - लघु कथा -
सिर पर उनकी, हमारी नज़र, हा-लातों पर - हरि जोशी
बारात के घोड़े... - विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र'
निर्दलीय होने का सुख - सुशील यादव
डंडे का करिश्मा - अशोक परुथी "मतवाला"
जन्मभूमि (कहानी) - रमेश ‘आचार्य’
अम्मा को अब भी है याद‌, कितने अच्छे अम्मा बाबू - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
अजीब-चमक, आँसू, तिरंगे की व्यथा - विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र'
चौथा खंभा
- रमेश ‘आचार्य’
पहली किश्त, जीवन का आनंद - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
चकोर का मजाक, नाइन एलेवन, तुम्हारी क़सम - सुभाष चन्द्र
आलेख -  शोध निबन्ध -  शोध निबन्ध -  
राजभाषा हिन्दी: दशा एवं दिशा
प्रो. महावीर सरन जैन
भूमंडलीकृत बाज़ार और भाषाएँ
डॉ. रेखा सेठी
अंध विश्वास
सुभाषिणी खेतरपाल
विचारों के झरोखे से जीवनबोध
अरुण रजक
डॉ. रामविलास शर्मा : रवीन्द्रनाथ का जातीय चिन्तन
बिजय कुमार रबिदास
हिन्दी कहानी से प्रवासी हिन्दी कहानी.....एक मूल्य यात्रा
अनुराधा शर्मा
नारी के विविध रूपों के संसर्ग में यशपाल के उपन्यासों का अध्ययन
कीर्ति भारद्वाज
साहित्यिक निबन्ध - साहित्य और सिनेमा - अनूदित साहित्य

आभाओं के उस विदा-काल में
शैलेन्द्र चौहान
साहित्य का नोबेल पुरस्कार - २०१४
शैलेन्द्र चौहान

स्त्री सरोकारों से जुड़ा हिंदी सिनेमा
डॉ. सारिका कालरा
अचानक....
(“फ्लाई ऑन द वॉल एण्ड अदर स्टोरीज़” लीफी पब्लीकेशन्स प्रा.लि. पुस्तक से)
मूल लेखिका : शुभा सरमा
अनुवादक : विकास वर्मा
बारिश की रिमझिम सी मेरी आवाज़ सुन
ऑक्टेवियो पाज़ की कविता "ऐज़ वन लिसन्ज़ टु द रेन" से प्रेरित)
प्रवीण शर्मा
कविताएँ - शायरी -
एक पूरी दुनिया है औरत, मेनोपॉज़, जमीं रहें अपनी जड़ों से औरतें, मुम्बई की बस में - सुमीता प्रवीण
नेल पालिश, वो मौसम - डॉ. मनीषकुमार सी. मिश्रा
बौरा गया हूँ मैं, सम्बंध, भूल, कितने प्रकरण, कितने प्रसंग, कल तुम्हारा जन्मदिवस है - प्रो. डॉ. किशोर गिरडकर
होने न होने का अंतर?, भारत के लोगों को क्या चाहिये - उषा बंसल
आकर्षण, कोढ़ - विकास वर्मा
कहाँ लिखूँ, मिलन के संग जुदाई है - बृजेश कुमार
नीड़, सावन मनमीत - अनमोल तिवारी
विरह की तड़प, प्रेमियों की गुफ़्तगू, खुलेआम अब जिस्मों का ... - राजेन्द्र सारथी
पर नहीं थे तुम, टूटा दिल - सीमा ‘असीम’ सक्सेना
यूँ तो इक नाज़ुक सी .... - अवधेश कुमार मिश्र "रजत"
प्यार किया है मैंने, स्वीकार कर लो, चिंतन से जीवन भर लो - डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ’अरुण’
दीपावली संदेश - रणवीर पाहवा "राजा"
शब्दों की दीपमाला - रेनू सिरोया कुमुदिनी
जगमग करता दीप - विशाल शुक्ल
वो सब फ़साने चले गए, मैं आज़ादी ठुकराता हूँ, फ़िक्र - डॉ. विक्रम सिंह ठाकुर
पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक चर्चा

महापुरुष की महागाथा
प्रदीप श्रीवास्तव

एक गाँव लाविनी
समीक्षक- राम चंद्र शुक्ल

बालिका शिक्षा
नानक्चन्द
यात्रा संस्मरण - संस्मरण-  संकलन -
Kailash
कैलाश-मानसरोवर यात्रा - प्रेमलता पांडे
अट्ठाहरवां दिन - 21/6/2010
उन्निसवां दिन - 22/6/201
कन्या-भ्रूण हत्या से संबंधित संस्मरण शृंखला 
हादस - ७
एक नया दिल दहला देने वाला अनुभव!
!कविता गुप्ता
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

अंतपुर की व्यथा कथा
अनिल कुमार पुरोहित
युद्ध के पश्चात
दृश्य - 01

शकुन्तला
इस अंक में चतुर्थ सर्ग - प्रमोद ६ महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश
(अगले अंक से)
साहित्यिक समाचार -

‘अद्यतन जनसंचार माध्याम’ पर राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा

अभिनेत्री तनुजा ने किया मधुमती फ़िल्म पर किताब का लोकार्पण
देवमणि पांडेय

यात्री के "खुला मंच" में संगीत, नाटक और शायरी का संगम
देवमणि पांडेय

नीरजा द्विवेदी के संस्मरण एवं महेश चंद्र द्विवेदी के व्यंग्य संग्रह का लोकार्पण
महेश चंद्र द्विवेदी

श्री चंचल हर्ष की पुस्तकों का विमोचन
सुनील गज्जाणी

डॉ. सुनील कुमार परीट जी को “काव्य कुमुद सम्मान”
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

हिन्दी राइटर्स गिल्ड
 अनुभूति-अभिव्यक्ति  
 काव्यालय
 वागर्थ (भारतीय भाषा परिषद.Com)
 हंस
 साहित्य सरिता
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
लघुकथा
साहित्य सेतु
हिन्दी ब्लॉग
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
87, Scarboro Ave.
Scarborough, Ont M1C 1M5
Canada